बेहतर भविष्य की और सराहनीय कदम

देश के बड़े मेट्रो शहरों कि भांति के गुरुकुल स्मार्ट स्कूल में एडवांस एजूकेशन सिस्टम को अपनाया कर प्राइमरी स्कूल को समय कि जरुरत के हिसाब से ढाला गया है। इसके तहत इन स्कूलों में दीवारों की रंगाई पुताई समेत स्कूल परिसर के फर्श पर सीसीटाइल्स और क्लास रुम में मार्बल टाइल्स बिछाई जा रही है। क्लास रूम की दीवारों पर डिजीटल पिक्चर्स के माध्यम से स्टूडेंटस को एज्यूकेशन से संबंधित चीजें सिखाई जाएंगी।

एलईडी पर होगी पढ़ाई

गुरुकुल स्मार्ट स्कूल की सबसे अधिक खास बात है डिजीटल प्रोजेक्टर की मदद से क्लास रूम में होने वाली पढ़ाई । इसके साथ ही एलईडी बोर्ड क्लास रुम में हुए हैं । इसके बाद सभी कक्षाओ को वाईफाई के माध्यम से जोड़ा हुआ है। क्लास रूम में फर्नीचर तक अपडेट करने के साथ-साथ पर्दे लगाए हुए हैं। इन कक्षाओं में शिक्षकों को भी बकायदा डिजीटल मोड में स्टडी कराने की जानकारी दी हुई है। ताकि स्टूडेंटस को इंटरनेट के माध्यम से रोचक अंदाज में पढ़ाई करा सकें।

स्मार्ट स्कूलिंग और एजुकेशन के लिए गुरुकुल परिवार निरंतर प्नरयास शील है। इसका कारण है हमने अपने लाभ से ज्यादातर हिस्सा तकनीकी सुधार में लगाया जान सुनिश्चीत किया है इस कवायद के तहत कक्षाओं और छात्रों का निरंतर सर्वे कराया जा रहा है।

बच्चू के लिए साफ़ पीने का पानी

बच्चों का भविष्य की तस्वीर बदलने वाले सरकारी स्कूलों का हाल बेहाल है। हजारों रूपये खर्च करने के बावजूद अन्य स्कूलों में बेसिक सुविधाएं तक नहीं हैं। स्थिति ये है कि स्कूलों में पीने का पानी और वाटर कनेक्शन भी नहीं हैं। ऐसे स्कूलों की दशा और दिशा सुधारने के लिए गुरुकुल स्मार्ट स्कूल ने ऑपरेशन कायाकल्प शुरु किया है। इसके तहत बच्चो को स्कूल में उच्च स्तरीय और सभी अत्याधुनिक सुविधाएँ दी जाएगी।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *